May 19, 2024

घराट

खबर पहाड़ से-

हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा के बीच खुलेंगे चारों धाम के कपाट, CM धामी ने तैयारियों को लेकर दिए ये खास निर्देश

1 min read

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि जिस दिन चारों धामों के कपाट खुलेंगे, उस दिन वहां हेलीकाप्टर से पुष्प वर्षा की जाएगी। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड मेजबान है, ऐसे में यह दायित्व बनता है कि पिछले वर्ष के अनुभवों से सीख लेकर इस यात्रा को और बेहतर बनाए। यह यात्रा किसी व्यक्ति विशेष की न होकर पूरे देश की यात्रा है। चारधाम यात्रा सुगम और सुरक्षित हो, इसके लिए अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि सभी तैयारियां हर हाल में 10 मई तक पूरी हो जाएं, ताकि यहां आए श्रद्धालु एक अच्छा संदेश लेकर जाएं।

सेवादारों की टीम को मुख्यमंत्री ने दिखाई हरी झंडी
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को नई दिल्ली के उत्तराखंड सदन से वर्चुअल रूप से बाबा केदारनाथ डोली यात्रा के साथ चलने वाले मुख्य सेवक का भंडारा कार्यक्रम को 300 सेवादारों की टीम को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह टीम मुख्य सेवक सदन मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय देहरादून से रवाना की गई। मुख्यमंत्री ने शुभकामनाएं देते हुए कहा कि 10 मई से चारधाम यात्रा शुरू होने वाली है। यह प्रदेश के लिए उत्सव का वातावरण तैयार करती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि चारधाम यात्रा एक चुनौती भी है, क्योंकि प्रत्येक वर्ष श्रद्धालुओं की संख्या निरंतर बढ़ रही है। इस बार भी यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में काफी उत्साह है। इस अवसर पर संस्कृति, साहित्य, कला परिषद उपाध्यक्ष मधु भट्ट, केके मदान, नवीन पिरशाली, दिनेश त्रिपाठी व मनीष सजवाण सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री की प्रेरणा से शुरू हुआ भंडारा
उत्तराखंड में केदारनाथ धाम के कपाट खुलने से पहले भगवान केदारनाथ की पंचमुखी भोगमूर्ति चल विग्रह उत्सव डोली यात्रा, पंचकेदार गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ से अपने धाम के लिए प्रस्थान करती है। इस दौरान बाबा केदार की उत्सव डोली यात्रा में आने वाले सभी श्रद्धालुओं के भोजन आदि की व्यवस्था के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की प्रेरणा से प्रदेश के युवाओं द्वारा मार्ग पर जगह-जगह भंडारे का आयोजन किया जाता है। पिछले साल की तरह इस साल भी युवाओं का यह समूह पांच मई से 10 मई तक मुख्य सेवक का भंडारा कार्यक्रम का आयोजन करने जा रहा है।

 

 

 

Spread the love